Amitabh Bachchan Hindi Biography | अमिताभ बच्चन की जीवनी

amitabh bachchan biography in Hindi

अमिताभ बच्चन: संक्षिप्त जीवन परिचय

अमिताभ बच्चन का जन्म 11 अक्टूबर 1942 को उत्तर-प्रदेश के इलाहाबाद (अब प्रयागराज ) में हुआ। इनके बचपन का नाम इंकलाब श्रीवास्तव था। इनके पिता का नाम हरिवंश राय बच्चन था, जो एक बहुत ही प्रसिद्ध हिन्दी कवि थे। इनकी माता का नाम तेजी बच्चन था और वे कराची से थीं।

अमिताभ बच्चन एक भारतीय फिल्म अभिनेता, फिल्म निर्माता, टेलीविजन होस्ट, पार्श्व गायक और पूर्व राजनीतिज्ञ के रूप में जाने जाते हैं। उनके द्वारा होस्ट किया जाने वाला शो “कौन बनेगा करोड़पति” आज भी बहुत पसंद किया जाता है।

इन्होंने 1970 के दशक में जंजीर, देवर और शोले जैसी फिल्मों के ज़रिये बहुत लोकप्रियता हासिल किया। बॉलीवुड में उनकी ऑन-स्क्रीन भूमिकाओं के कारण भारत के “angry young man” के रूप में प्रसिद्ध हुए। उन्हें बॉलीवुड के शहंशाह (उनकी 1988 की फिल्म शहंशाह के कारण), सदी का महानायक (“Greatest actor of the century”), Star of the Millennium और बिग बी जैसे उपनाम भी मिले हैं।

बच्चन को व्यापक रूप से भारतीय सिनेमा के साथ-साथ विश्व सिनेमा के इतिहास के सबसे महान और प्रभावशाली अभिनेताओं में से एक माना जाता है। 1970 और 1980 के दशक में भारतीय फिल्म इंडस्ट्री पर उनका प्रभुत्व था और फ्रांसीसी निर्देशक फ्रांस्वा ट्रोफोट ने उन्हें “वन-मैन इंडस्ट्री” कहा था।

भारतीय उपमहाद्वीप से बाहर भी इनके बहुत सारे प्रशंसक अफ्रीका, मिस्र, यूनाइटेड किंगडम, रूस, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद, टोबैगो, फिजी, ऑस्ट्रेलिया , न्यूजीलैंड और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे बहुत से देशों में मिलते हैं।

बच्चन ने अपने करियर में कई पुरस्कार जीते हैं, जिसमें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के रूप में चार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, दादा साहेब फाल्के पुरस्कार और अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोहों और पुरस्कार समारोहों में कई पुरस्कार शामिल हैं। उन्होंने पंद्रह फिल्म-फेयर पुरस्कार जीते हैं।

इन्होंने 15 फिल्म-फेयर अवार्ड जीता है और 41 नामांकन के साथ फिल्म-फेयर में किसी भी अभिनय श्रेणी में सबसे अधिक नामांकन प्राप्त करने वाले कलाकार हैं।

भारत सरकार ने उन्हें कला में उनके योगदान के लिए 1984 में पद्मश्री, 2001 में पद्म भूषण और 2015 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया। फ्रांस की सरकार ने 2007 में सिनेमा और उससे परे इनके असाधारण करियर के लिए अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान, नाइट ऑफ द लीजन ऑफ ऑनर से उन्हें सम्मानित किया।

अमिताभ बच्चन का प्रारंभिक जीवन एवं परिवार

बच्चन का जन्म इलाहाबाद में हुआ था। उनके पिता, हरिवंश राय बच्चन एक अवधी हिंदू थे और उनके पूर्वज भारत के वर्तमान राज्य उत्तर प्रदेश में प्रतापगढ़ जिले में, रानीगंज तहसील में, बाबूपट्टी नामक एक गाँव से आए थे।उनके पिता एक कवि थे, जो अवधी, हिंदी और उर्दू में बहुत ही निपुण थे।

उनकी मां, तेजी बच्चन, एक सामाजिक कार्यकर्ता थीं और पंजाब, लायलपुर, ब्रिटिश भारत (वर्तमान फ़ैसलाबाद, पंजाब, पाकिस्तान) की पंजाबी सिख महिला थीं। ।

अमिताभ बच्चन को शुरू में इंकलाब नाम दिया गया था, जो कि इंकलाब जिंदाबाद (“Long live the revolution”) से प्रेरित है, जो कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान बहुत लोकप्रिय रूप से इस्तेमाल किया गया था। हालांकि, साथी कवि सुमित्रानंदन पंत के सुझाव पर, हरिवंश राय ने इनका नाम बदलकर अमिताभ कर दिया।

हालांकि इनका उपनाम श्रीवास्तव था लेकिन इनके पिता अपनी सभी रचनाएँ बच्चन नाम से लिखा करते थे। इस प्रकार से इनका नाम अमिताभ बच्चन पड़ा।

अमिताभ बच्चन शेरवुड कॉलेज, नैनीताल के पूर्व छात्र हैं। बाद में उन्होंने किरोड़ीमल कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से भी शिक्षा ग्रहण किया । उनका एक छोटा भाई भी है जिनका नाम अजिताभ है।

उनकी माँ की थिएटर में गहरी दिलचस्पी थी और उन्हें एक फीचर फिल्म भूमिका की पेशकश की गई थी, लेकिन उन्होंने अपने घरेलू कर्तव्यों को प्राथमिकता दी। अमिताभ बच्चन के करियर की पसंद में उनकी माता तेजी बच्चन का हाथ था क्योकि वे चाहती थीं कि अमिताभ को अच्छी पहचान और लोकप्रियता मिले।

अमिताभ बच्चन ने फिल्म अभिनेत्री जया भादुरी से 3 जून 1972 को शादी किया। इनके दो बच्‍चे अभिषेक बच्चन और श्‍वेता बच्चन नंदा हैं। इनकी बेटी श्‍वेता का विवाह दिल्‍ली में कपूर परिवार के पोते उद्योगपति निखिल नंदा से हुई है और उनके दो बच्‍चे हैं जिनाक नाम नव्‍या नवेली और अगत्‍स्‍य नंदा है। जबकि बेटे अभिषेक की शादी अभिनेत्री ऐश्‍वर्या रॉय से हुई है और इन दोनों की एक बेटी आराध्‍या बच्‍चन है।

अभिनय कैरियर

शुरुआत के वर्ष (1969–1972)

अमिताभ बच्चन ने अपना फिल्मी सफर 1969 में मृणाल सेन की राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म भुवन शोम में  अपनी आवाज़ देकर शुरु किया। ख्वाजा अहमद अब्बास द्वारा निर्देशित फिल्म सात  हिंदुस्तानी नायक के रूप में उनकी पहली फिल्म थी।

फिल्म आनंद (1971) में उन्होने राजेश खन्ना के साथ अभिनय किया । इस फिल्म में एक डॉक्टर के रूप में उनकी भूमिका ने बच्चन को अपना पहला फिल्म फेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार दिलाया। इसके बाद उन्होंने कई अन्य फिल्मों में काम किया लेकिन वे सफल नही रही। माला सिन्हा के साथ उनकी एकमात्र फिल्म संजोग (1972) बॉक्स ऑफिस पर सफल रही।

सफलता और प्रसिद्धी (1973–1983)

जब अमिताभ बच्चन संघर्ष कर रहे थे, उनकी बारह फिल्मे फ्लॉप हो चुकी थी और केवल दो हिट हुई थी। ऐसे समय में सलीम खान ने बच्चन को प्रकाश मेहरा से मिलवाया और सलीम-जावेद की जोड़ी ने जोर देकर कहा कि बच्चन को जंजीर फिल्म की मुख्य भूमिका के लिए कास्ट किया जाए।

ज़ंजीर हिंसक पृष्ठभूमि की फिल्म थी, जो आमतौर पर पहले से चली आ रही रोमांटिक फिल्मों के विपरीत थी। लेकिन इस फिल्म ने बहुत बड़ी सफलता प्राप्त की और उस साल की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्मों में से एक बनी, जिसने बॉक्स ऑफिस पर बच्चन के असफलताओ की कड़ी को तोड़ दिया और उन्हें स्टार बना दिया।

यह सलीम-जावेद और अमिताभ बच्चन के तिकड़ी की पहली फिल्म थी। सलीम-जावेद ने मुख्य भूमिका के लिए बच्चन के साथ इसके बाद की कई पटकथाएँ लिखीं, और उन्हें अपनी बाद की फ़िल्मों के लिए कास्ट करने पर ज़ोर दिया, जिनमें दीवार (1975) और शोले (1975) जैसी ब्लॉकबस्टर शामिल थीं।

सलीम खान ने निर्देशक मनमोहन देसाई के सामने बच्चन को भी पेश किया, जिनके साथ उन्होंने प्रकाश मेहरा और यश चोपड़ा के साथ एक लंबी और सफल एसोसिएशन बनाई। आखिरकार, बच्चन फिल्म उद्योग के सबसे सफल अभिनेताओं में से एक बन गए।

1975 में, बच्चन ने सलीम-जावेद द्वारा लिखित हिंदी सिनेमा के इतिहास में दो फिल्मों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। पहली फिल्म थी दीवार, जिसका निर्देशन यश चोपड़ा ने किया था, इस फिल्म में उन्होंने शशि कपूर, निरूपा रॉय, परवीन बाबी, और नीतू सिंह के साथ काम किया था और सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए एक और फ़िल्मफ़ेयर नामांकन अर्जित किया था। जबकि दूसरी फिल्म शोले थी, जो 15 अगस्त 1975 को रिलीज़ हुई। शोले उस समय भारत में सबसे अधिक कमाई करने वाली फिल्म बन गई, जिसमें बच्चन ने जयदेव की भूमिका निभाई थी।

दीवार और शोले को अक्सर बच्चन को सुपरस्टारडम की ऊँचाइयों तक पहुंचाने का श्रेय दिया जाता है। सन् 1999 में, बीबीसी इंडिया ने शोले को “Film of the Millennium” घोषित किया। उसी वर्ष, 50 वें वार्षिक फिल्म फेयर अवार्ड के निर्णायकों ने इसे 50 वर्षों के सर्वश्रेष्ठ फिल्म फेयर फिल्म के विशेष पुरस्कार से सम्मानित किया।

1976 में, उन्हें यश चोपड़ा ने रोमांटिक पारिवारिक नाटक कभी-कभी में कास्ट किया। बच्चन ने एक युवा कवि, अमित मल्होत्रा के रूप में अभिनय किया और बच्चन को फिर से फिल्म में उनकी भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के फिल्मफेयर पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया। उसी वर्ष उन्होंने हिट फिल्म अदालत में पिता और पुत्र के रूप में दोहरी भूमिका निभाई। 1977 में, उन्होंने अमर अकबर एंथनी में अपने प्रदर्शन के लिए अपना पहला फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार जीता, जिसमें उन्होंने तीसरे लीड विनोद खन्ना और ऋषि कपूर के साथ एंथोनी गोंसाल्वेस के रूप में भूमिका निभाई थी।

एक बार फिर डॉन (1978) फिल्म उनके प्रदर्शन ने उन्हें अपना दूसरा फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार जीता। उन्होंने यश चोपड़ा की त्रिशूल और प्रकाश मेहरा की मुकद्दर का सिकंदर में भी शानदार अभिनय दिया, जिसमें दोनों ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फिल्मफेयर नामांकन दिलाया।

1978 को निश्चित रूप से बॉक्स ऑफिस पर उनका सबसे सफल वर्ष माना जाता है, क्योंकि उसी वर्ष उनकी छह फिल्में रिलीज़ हुईं- मुक़द्दर का सिकंदर, त्रिशूल, डॉन, कसमे वादे, गंगा की सौगंध और बेशरम और ये सभी फिल्में बड़े पैमाने पर सफल रहीं।

1979 में, बच्चन ने सुहाग में अभिनय किया, जो उस वर्ष की सबसे अधिक कमाई वाली फिल्म थी। उसी वर्ष उन्होंने मिस्टर नटवरलाल, काला पत्थर, द ग्रेट गैम्बलर और मंज़िल जैसी फ़िल्मों के साथ आलोचनात्मक प्रशंसा और व्यावसायिक सफलता का आनंद लिया। अमिताभ को पहली बार फिल्म श्री नटवरलाल के एक गीत में पहली बार अपनी आवाज दिया था।

कूली फिल्म की घटना

26 जुलाई 1982 को, बैंगलोर में यूनिवर्सिटी कैंपस में कुली फिल्म के शूटिंग के समय, बच्चन को सह-अभिनेता पुनीत इस्सर के साथ एक लड़ाई के दृश्य के फिल्मांकन के दौरान आँत में एक घातक में चोट लगी थी, जिसके कारण वे कई महीनों तक अस्पताल में गंभीर रूप से भर्ती रहे। जब वे भर्ती थे, अस्पताल के बाहर शुभचिंतकों की लंबी कतारें लगी रहती थीं।

यह फिल्म 1983 में रिलीज़ हुई थी और बॉक्स ऑफिस पर सफल रही। यह उस वर्ष की शीर्ष-कमाई वाली फिल्म बनी।

बाद में, उन्हें मायस्थेनिया ग्रेविस बिमारी का पता चला। इस बीमारी ने उन्हें मानसिक और शारीरिक रूप से कमजोर कर दिया और उन्होंने फिल्म छोड़कर राजनीति में उतरने का फैसला किया।

फिल्मी कैरियर के उतार-चढ़ाव

1984 से 1987 तक राजनीति में तीन साल के कार्यकाल के बाद, बच्चन ने 1988 में फिल्मों में वापसी किया और शहंशाह की फिल्म में मुख्य भूमिका की, जो बॉक्स ऑफिस पर सफल रही। हालांकि वापसी के बाद उनकी फिल्में सफल नहीं रहीं, लेकिन इस अवधि के दौरान आज का अर्जुन (1990) और एक्शन क्राइम ड्रामा हम (1991) सफल हुई। हम फिल्म के लिए उन्होंने अपना तीसरा फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार जीता।

अमिताभ बच्चन ने 1990 की फिल्म अग्निपथ में अपने प्रदर्शन के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पहला राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता। फिल्म इन्सानियत (1994) की रिलीज़ के बाद बच्चन पाँच वर्षों तक किसी भी नई रिलीज़ में नहीं दिखे।

प्रोडक्शंस और अभिनय वापसी

अमिताभ बच्चन ने 1996 में अमिताभ बच्चन कॉरपोरेशन लिमिटेड (ABCL) की स्थापना करते हुए अपनी अस्थायी सेवानिवृत्ति की अवधि के दौरान निर्माता भी बने । ABCL की रणनीति भारत के मनोरंजन उद्योग के संपूर्ण क्रॉस-सेक्शन को कवर करने वाले उत्पादों और सेवाओं को पेश करने की थी। ABCL के संचालन में मुख्यधारा की व्यावसायिक फिल्म निर्माण और वितरण, ऑडियो कैसेट और वीडियो डिस्क, टेलीविजन सॉफ्टवेयर का उत्पादन और विपणन, और सेलिब्रिटी और इवेंट मैनेजमेंट थे।

1996 में कंपनी ने अपनी लांचिंग के तुरंत बाद एक फिल्म रिलीज की, यह पहली फिल्म “तेरे मेरे सपने” थी, जो एक मध्यम सफलता थी और अरशद वारसी और दक्षिणी फिल्म स्टार सिमरन जैसे अभिनेताओं के करियर का शुभारंभ किया।

ABCL 1996 की मिस वर्ल्ड ब्यूटी पेजेंट, बैंगलोर की मुख्य प्रायोजक थी, लेकिन इसे लाखों रुपये का नुकसान हुआ। बच्चन को अपनी कंपनी के लिए धन जुटाने के लिए अपने बंगले को गिरवी रखना पड़ा।

बच्चन ने अपने अभिनय करियर को पुनर्जीवित करने का प्रयास किया, और अंततः उन्हें बड़े मियाँ छोटे मियाँ (1998) और मेजर साब (1998) के साथ व्यावसायिक सफलता मिली, और सूर्यवंशम (1999) के लिए प्रशंसा मिली ।

अभिनय कैरियर की वापसी (2000 - अभी तक)

2000 में, अमिताभ बच्चन आदित्य चोपड़ा द्वारा निर्देशित यश चोपड़ा की बॉक्स ऑफिस पर हिट, मोहब्बतें में दिखाई दिए। उनकी भूमिका ने उन्हें अपना तीसरा फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार दिलाया। इसके बाद अन्य हिट फिल्मों में बच्चन के साथ एक रिश्ता: द बॉन्ड ऑफ लव (2001), कभी खुशी कभी गम (2001) और बागबान (2003) में एक बड़े परिवार के संरक्षक के रूप में दिखाई दिए। एक अभिनेता के रूप में, उन्होंने अक्स (2001), आंखें (2002), कांटे(2002), खाकी (2004) और देव (2004) में अपने प्रदर्शन के लिए महत्वपूर्ण प्रशंसा प्राप्त करते हुए कई पात्रों में अभिनय करना जारी रखा। अक्स में उनके प्रदर्शन ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए अपना पहला फिल्मफेयर क्रिटिक्स अवार्ड जीता।

संजय लीला भंसाली की फिल्म ब्लैक (2005) अमिताभ बच्चन के लिए विशेष रही थी। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन को एक अंधी-बधिर लड़की के शिक्षक के रूप में किरदार निभाया था। उनके प्रदर्शन को आलोचकों और दर्शकों द्वारा सर्वसम्मति से सराहा गया और उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए दूसरा राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, उनका चौथा फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए उनका दूसरा फिल्मफेयर क्रिटिक्स अवार्ड मिला। इस पुनरुत्थान का लाभ उठाते हुए, अमिताभ ने कई तरह के उत्पादों और सेवाओं का विज्ञापन करने किया , साथ ही कई टेलीविजन और बिलबोर्ड विज्ञापनों में भी दिखाई दिए।

पा, जो 2009 के अंत में रिलीज किया गया था, यह एक बहुप्रतीक्षित फिल्म थी क्योंकि इसमें उन्होंने अपने बेटे अभिषेक के प्रोजेरिया बिमारी से प्रभावित 13 वर्षीय बेटे की भूमिका निभाया था, और यह अमिताभ बच्चन की बेहतरीन फिल्मों में से एक है। इस फिल्म ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए अपना तीसरा राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और पाँचवाँ सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पाँचवाँ फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार दिलाया।

फिल्म पीकू (2015) में शानदार अभिनय प्रदर्शन ने जरिये अमिताभ  बच्चन ने सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का चौथा फिल्मफेयर पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए तीसरी फिल्मफेयर क्रिटिक्स अवार्ड जीता।

अमिताभ जी का अभी हाल ही में आयुष्मान खुराना के साथ गुलाबो सिताबो फिल्म ओटीटी प्लेटफार्म अमेज़न प्राइम पर रिलीज़ किया गया. फिल्म दर्शकों को कुछ खास पसंद नहीं आई लेकिन अमिताभ बच्चन के अभिनय की सबने तारीफ किया।

अक्टूबर 2017 में, यह घोषणा की गई कि रणबीर कपूर और आलिया भट्ट के साथ अमिताभ बच्चन अयान मुखर्जी की ब्रह्मास्त्र में दिखाई देंगे।

अभिनय के अलावा अन्य काम

राजनीति

1984 में, बच्चन ने अभिनय से ब्रेक ले लिया और लंबे समय के पारिवारिक मित्र, राजीव गांधी के समर्थन में संक्षिप्त राजनीति में प्रवेश किया। उन्होंने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री 8 वीं लोकसभा के एच। एन। बहुगुणा के खिलाफ इलाहाबाद की सीट से चुनाव लड़ा और सामान्य चुनाव के इतिहास में सबसे अधिक जीत के मार्जिन में से एक (68.2% वोट) जीता । हालांकि उनका राजनीतिक करियर अल्पकालिक था: उन्होंने तीन साल बाद इस्तीफा दे दिया। उन्होंने राजनीति को एक सेसपूल कहा। इस्तीफे के बाद बच्चन और उनके भाई को एक अखबार द्वारा “बोफोर्स कांड” से जोड़ा गया लेकिन श्री बच्चन को अंतत: इस मामले में शामिल होने का दोषी नहीं पाया गया।

उनके पुराने दोस्त, अमर सिंह ने उनकी कंपनी एबीसीएल की विफलता के बाद उभरे वित्तीय संकट के दौरान उनकी मदद की। इसके बाद बच्चन ने समाजवादी पार्टी का समर्थन करना शुरू कर दिया, जिस राजनीतिक दल का संबंध अमर सिंह से था। इसके अलावा, जया बच्चन समाजवादी पार्टी में शामिल हो गईं और उन्होंने राज्यसभा में सांसद के रूप में पार्टी का प्रतिनिधित्व किया। बच्चन ने समाजवादी पार्टी के लिये बहुत से विज्ञापन करने के साथ-साथ राजनीतिक अभियानों में दिखाई दिये।

टेलीवीजन

अमिताभ बच्चन ने फिल्मो के अलावा टेलीविजन पर भी अच्छी सफलता प्राप्त किया ।

सन् 2000 में, अमिताभ बच्चन ने कौन बनेगा करोड़पति (KBC) के पहले सीजन की मेजबानी की, जो कि ब्रिटिश टेलीविजन गेम शो, हू वांट्स टू बी अ मिलियनेयर; शो से प्रेरित होकर बनाया गया था।

इसके तीसरे सीजन को छोड़कर, अभी तक सभी सीजन को अमिताभ बच्चन ने होस्ट किया है। 2007 में अमिताभ के बीमार होने के कारण तीसरा सीजन शाहरुख खान ने होस्ट किया था ।

2009 में अमिताभ बच्चन ने बिग बास रियलिटी शो के तीसरे सीजन को होस्ट किया था।

2014 में, उन्होंने सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविज़न की टीवी सीरीज युद्ध में जिसमें एक व्यवसायी की मुख्य भूमिका निभाई थी।

वाॅयस एक्टिंग

अमिताभ बच्चन अपनी गहरी, बैरीटोन आवाज के लिए जाने जाते हैं। वह एक कथाकार, एक पार्श्व गायक, और कई कार्यक्रमों के लिए प्रस्तुतकर्ता रहे हैं। प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक सत्यजीत रे बच्चन की आवाज से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने शतरंज के खिलाड़ी फिल्म में कथावाचक के रूप में अमिताभ बच्चन की आवाज  का उपयोग करने का फैसला किया।।

अमिताभ बच्चन ने 2001 की फिल्म लगान के एक कथावाचक के रूप में अपनी आवाज दी, जो सुपरहिट रही। बच्चन ने ल्यूक जैक्वेट द्वारा निर्देशित ऑस्कर विजेता फ्रांसीसी वृत्तचित्र मार्च ऑफ पेंगुइन के लिए अपनी आवाज दी।

अमिताभ ने बहुत सी प्रसिद्ध फिल्मों मे अपनी आवाज दी है, जिसमें लगान, कहानी, महाभारत , परिणीता, जोधा अकबर प्रमुख हैं।

मानवतापूर्ण कार्य

अमिताभ बच्चन कई सामाजिक कार्यों से जुड़े रहे हैं। उदाहरण के लिए, उन्होंने आंध्र प्रदेश में लगभग 40 संकटग्रस्त किसानों के ऋणों को माफ करने के लिए million 1.1 मिलियन का दान किया और विदर्भ के 100 किसानों के ऋण को खत्म करने के लिए 3 लाख का दान किया।

2010 में, उन्होंने कोच्चि में एक मेडिकल सेंटर के लिए रेसुल पुकुट्टी की नींव को million 1.1 मिलियन दान किया और उन्होंने दिल्ली के पुलिसकर्मी सुभाष चंद तोमर (जिनकी मौत हो गई) के परिवार को 250,000 ($ 4,678) दिए।

उन्होंने 2013 में अपने पिता के नाम पर हरिवंश राय बच्चन मेमोरियल ट्रस्ट की स्थापना की। उर्जा फाउंडेशन के सहयोग से यह ट्रस्ट भारत में 3,000 घरों को सौर ऊर्जा के माध्यम से बिजली प्रदान करेगा। जून 2019 में उन्होंने बिहार के 2100 किसानों के कर्ज चुकाने के लिए मंजूरी दी।

अमिताभ बच्चन को 2002 में भारत के पोलियो उन्मूलन अभियान के लिए यूनिसेफ सद्भावना राजदूत बनाया गया । 2013 में, उन्होंने और उनके परिवार ने एक चैरिटेबल ट्रस्ट, प्लान इंडिया को ₹ 2.5 मिलियन ($ 42,664) का दान दिया, जो भारत में युवा लड़कियों की बेहतरी के लिए काम करता है। उन्होंने 2013 में महाराष्ट्र पुलिस कल्याण कोष को million 1.1 मिलियन ($ 18,772) का दान भी दिया।

अमिताभ बच्चन ‘सेव आवर टाइगर्स’ अभियान के हिस्सा बने, जिसने भारत में बाघ संरक्षण के महत्व को बढ़ावा दिया।

उन्होंने स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में विकसित एक अंतर्राष्ट्रीय एचआईवी / एड्स शिक्षा उपकरण के लिए हिंदी और अंग्रेजी भाषा में अपनी आवाज रिकॉर्ड की थी ।

इन्होंने भारत सरकार के बहुत से अभियानों को बढ़ावा दिया है जैसे, पोलियो उन्मूलन एवं स्वच्छ भारत अभियान।

व्यवसायिक निवेश

अमिताभ बच्चन ने कई व्यावसायिक उपक्रमों में निवेश किया है। 2013 में, उन्होंने जस्ट डायल में 10% हिस्सेदारी खरीदी, जिसमें उन्होंने 4600 प्रतिशत का लाभ कमाया। वित्तीय बाजारों के लिए क्लाउड कंप्यूटिंग में विशेषज्ञता वाली वित्तीय प्रौद्योगिकी कंपनी स्टैम्पेड कैपिटल में उनकी 3.4% इक्विटी है। बच्चन परिवार ने अमेरिका में एक परामर्श कंपनी मेरीडियन टेक में $ 252,000 के शेयर भी खरीदे। हाल ही में उन्होंने क्लाउड आधारित सामग्री वितरण मंच Ziddu.com में अपना पहला विदेशी निवेश किया।

अमिताभ बच्चन का नाम पनामा पेपर्स और पैराडाइज पेपर्स में रखा गया था, जो अपतटीय निवेश से संबंधित गोपनीय दस्तावेज लीक हुए थे।

पुरस्कार एवं सम्मान

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, फिल्मफेयर पुरस्कार और अन्य प्रतिस्पर्धी पुरस्कारों के अलावा भी, अमिताभ बच्चन को भारतीय फिल्म उद्योग में उनकी उपलब्धियों के लिए कई सम्मानों से सम्मानित किया गया। 1991 में, वह फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार प्राप्त करने वाले पहले कलाकार बने, जिसे राज कपूर के नाम पर स्थापित किया गया था।

बच्चन को 2000 में फिल्मफेयर अवार्ड्स में Superstar of the Millennium के रूप में ताज पहनाया गया था।

2001 में, उन्हें सिनेमा की दुनिया में उनके योगदान के लिए, मिस्र में एलेक्जेंड्रिया इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में सेंचुरी अवार्ड से सम्मानित किया गया। उनकी उपलब्धियों के लिए कई अन्य सम्मान उन्हें कई अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोहों में दिए गए, जिनमें 2010 के एशियाई फिल्म पुरस्कारों में लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड शामिल है।

वह पहले जीवित एशियाई व्यक्ति हैं जिनका (जून 2000) लंदन के मैडम तुसाद वैक्स म्यूजियम में मोम का मूर्ति बनाया गया। इसके बाद उनकी कई और मूर्तियाँ बनायी गयी जैसे- 2009 में न्यूयॉर्क, 2011 मेंहांगकांग, 2011 में बैंकॉक, 2012 में वाशिंगटन डीसी, और 2017 में दिल्ली।

2003 में, उन्हें फ्रांसीसी शहर ड्यूविल के मानद नागरिकता से सम्मानित किया गया। [175] भारत सरकार ने उन्हें 1984 में पद्म श्री, 2001 में पद्म भूषण और 2015 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया। अफ़गानिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति ने 1991 में खुदा गवाह फिल्म की शूटिंग के बाद उन्हें ऑर्डर ऑफ़ अफ़ग़ानिस्तान से सम्मानित किया। फ्रांस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, नाइट ऑफ द लीजन ऑफ़ ऑनर से 2007 में फ्रांसीसी सरकार द्वारा उन्हें असाधारण करियर के लिए सम्मानित किया गया था।

बच्चन के बारे में कई किताबें लिखी गई हैं।

  • Amitabh Bachchan: the Legend was published in 1999,             
  • To be or not to be: Amitabh Bachchan in 2004
  • AB: The Legend (A Photographer’s Tribute) in 2006
  • Amitabh Bachchan: Ek Jeevit Kimvadanti in 2006
  • Amitabh: The Making of a Superstar in 2006
  • Looking for the Big B: Bollywood, Bachchan and Me in 2007
  • Bachchanalia in 2009.

बच्चन ने खुद 2002 में एक किताब लिखी थी: Soul Curry for you and me – An Empowering Philosophy That Can Enrich Your Life.

80 के दशक की शुरुआत में, अमिताभ बच्चन ने कॉमिक बुक के चरित्र सुप्रीमो के लिए अपनी समानता के उपयोग को द एडवेंचर्स ऑफ अमिताभ बच्चन शीर्षक से अधिकृत किया।

मई 2014 में, ऑस्ट्रेलिया में ला ट्रोब विश्वविद्यालय ने एक छात्रवृत्ति का नाम अमिताभ बच्चन के नाम पर दिया।

  • अमिताभ बच्चन से सम्बन्धित किताबें खरीदें-
  • Amitabh: The making of a superstar                             Buy Now
  • Excellence: The Amitabh Bachchan Way                      Buy Now
  • Amitabh Bachchan: A Kaleidoscope                              Buy Now
  • Amitabh Bachchan: Reflections on a Star Image        Buy Now

अमिताभ बच्चन के बारे में अज्ञात तथ्य

  • पेटा इंडिया द्वारा उन्हें 2012 में “हॉटेस्ट वेजिटेरियन” नामित किया गया था। उन्होंने पेटा एशिया द्वारा चलाए गए एक प्रतियोगिता पोल में “एशिया के सबसे सेक्सी शाकाहारी” का खिताब जीता।
  • इलाहाबाद में, अमिताभ बच्चन स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स और अमिताभ बच्चन रोड का नाम उनके नाम पर रखा गया है।
  • सैफई, इटावा के एक सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल को अमिताभ बच्चन गवर्नमेंट इंटर कॉलेज कहा जाता है।
  • सिक्किम में एक झरना है जिसे अमिताभ बच्चन जलप्रपात के नाम से जाना जाता है।
  • कोलकाता में एक मंदिर है, जहाँ अमिताभ बच्चन को भगवान के रूप में पूजा जाता है।
  • अमिताभ बच्चन ने किसी भी अन्य अभिनेता की तुलना में सबसे अधिक दोहरी (डबल) भूमिका निभाया है । उनकी एक फिल्म, महान में, उन्होंने एक ट्रिपल-भूमिका निभाई।
  • अमिताभ बच्चन अपने दोनों हाथों से समान रूप से अच्छी तरह से लिख सकते हैं।
  • अपने शुरुआती दिनों के संघर्ष के दौरान श्री बच्चन को महमूद ने शरण दी थी और उन्होंने उन्हें अपने घर में रहने के लिए जगह भी दी थी।
  • अमिताभ बच्चन अस्थमा से पीड़ित हैं।
  • बीबीसी समाचार द्वारा आयोजित एक सर्वेक्षण में, अमिताभ बच्चन ने चार्ली चैपलिन और मार्लन ब्रैंडो (अमेरिकी अभिनेता) जैसे सितारों को हराकर ‘मिलेनियम के अभिनेता’ (Actor of the Millennium) का खिताब जीता।
  • मिस्र में अलेक्जेंड्रिया फिल्म फेस्टिवल, 2001 में, उन्हें “सदी के सुपरस्टार” के खिताब से सम्मानित किया गया।
  • श्री बच्चन ने दक्षिण अफ्रीका में पूर्व हॉलीवुड कलाकार क्रिस्टोफर ली के साथ गोल्फ खेलने को सही मायने में अपने मूल्यवान हॉलीवुड यादों के रूप में रखा है।
  • अमिताभ इंजीनियर बनना चाहते थे और भारतीय वायु सेना में शामिल होना चाहते थे।
  • बिग बी हिंदी फिल्मों में वाहिदा रहमान को सबसे खूबसूरत अभिनेत्री मानते हैं।
  • भारतीय हास्य चरित्र ‘सुप्रीमो’ अमिताभ बच्चन पर आधारित है
  • जब बिग बी के पास उस समय मुंबई में घर नहीं था, तो उन्होंने मरीन ड्राइव में कई रातें बिताईं।
  • अमिताभ बच्चन ने अपने अभिनय करियर की शुरुआत 1969 में फिल्म ‘साथ हिंदुस्तानी’ से की।इस फिल्म के लिए उन्होंने 1,000 रुपये का भुगतान किया था।
  • उनका पसंदीदा स्क्रीन नाम विजय है। बिग बी को 20 से अधिक फिल्मों में विजय के रूप में नामित किया गया था। जबकि उनका दूसरा प्रसिद्ध नाम अमित था।
  • अमिताभ और जया एकमात्र ऐसे रियल कपल हैं जिन्होंने 30 से अधिक फिल्मों में एक साथ स्क्रीन पर काम किया है।
  • अमिताभ की ज्यादातर फिल्मों में अभिनेत्री निरुपमा रॉय उनकी माँ की भूमिका में दिखाई दीं। अमिताभ की माँ की भूमिका में, उनकी आखिरी फिल्म 1999 में ‘लाल बादशाह’ थी।
  • 90 के दशक के अंतिम वर्षों में अमिताभ को उनकी दूसरी फिल्म ‘मृदुदत्ता’ के बाद बिग बी का खिताब मिला।
  • अमिताभ की फिल्म uda खुदा गवाह ’अफगानिस्तान में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली भारतीय फिल्म है।
  • फिल्म की शूटिंग केवल अफगानिस्तान में की गई थी, उस समय वहां के राष्ट्रपति नजीबुल्लाह अहमदजई ने अमिताभ को वीआईपी ट्रीटमेंट दिया था और उनकी सुरक्षा के लिए अपनी आधी वायु सेना लगाई थी।
  • उनका घर ‘जलसा’ निर्देशक रमेश सिप्पी द्वारा अमिताभ को भेंट की गयी थी।
  • अमिताभ को सूट पहनने का शौक है। उनका पसंदीदा ब्रांड ‘गबाना’ है, जो पिछले 30 वर्षों से उनके लिए सूट डिजाइन कर रहा है।
  • बिग बी को घड़ियों का भी शौक है। कहा जाता है कि उनके पास हर मौके के लिए अलग-अलग घड़ियां हैं। उनका पसंदीदा ब्रांड लॉन्गिंस है, जिसकी कीमत 2 लाख रुपये से शुरू होती है।
  • उनके अन्य शौक में पेन कलेक्शन भी शामिल है। अमिताभ के पास एक हजार से अधिक पेन का संग्रह है। जर्मन कंपनी मोंट ब्लांक उसे उपहार के रूप में हर साल उसके जन्मदिन पर एक विशेष पेन देती है।
  • उनकी एकमात्र ब्लैक एंड व्हाइट फिल्म ‘सात हिंदुस्तानी’ है।
  • उनकी मां तेजस्वी बच्चन उन्हें ज्यादातर मुन्ना के नाम से पुकारा करती थीं।
  • अमिताभ बच्चन का फिल्मों के लिए पहला फोटोशूट एल्बम उनके छोटे भाई अजिताभ बच्चन द्वारा किया गया था।
  • 1973 से 1984 तक, अमिताभ की लगभग 19 फिल्मों ने गोल्डन जुबली मनाई थी।

अगर आपको यह पोस्ट Amitabh Bachchan Hindi Biography  पसंद आया है तो इसे दोस्तों एवं सोशल मीडिया पर शेयर करें। धन्यवाद।

Leave a Reply